9/4: अपने जन्मसिद्ध अधिकार को समझना

9/4: अपने जन्मसिद्ध अधिकार को समझना

  1. धन्यावाद श्री लिखी जी बहुत ही सुंदर लिफ्ट के लिए कि हमें नहीं भूलना चाहिए कि हम सब उस परमेश्वर की संतान हैं और हम सब में भी असीमित क्षमता है जिस प्रकार हमारे माता पिता परमेश्वर के पास! हमें अपने जन्मसिद अधिकार को हर समय याद रखना चाहिए , आपने एक गिद्द की उदहारण देकर बहुत सुंदर तरीके से समझाया, एक बार फिर से धन्यवाद इतने प्रेरित लिफ्ट के लिए !

  2. so beautiful story, like a bodh katha from jatak katha of buddhism.
    i praise lord.
    thankyou.

  3. Your story told is certainly the truth - we limit ourselves but when we realize our true identity we have infinite possibilities. Great analogy! Thank you.

  4. I love this Lift in English, so I wanted to hear it in Hindi. What a beautiful language! Truth and Love are universal. I pray that one day the whole human family will be one in love and peace. Thank you, Sushil.

  5. p.s. What does Namaste mean in English?

    Daily Lift Team:
    Here's what Wikipedia says about Namaste http://en.wikipedia.org/wiki/Namaste

  6. Sushil likhi ji. What a marvrlous story! Really we limit ourselves. We do not understand our Father Mother's Love. Thank you so much for this daily lift.

  7. श्री लिखी जी इस सुंदर लिफ्ट के लिए आपका बहुत धन्यवाद। आपने बिल्कुल सही कहा है, जो कुछ हम अपने स्वयं के बारे में सोचते हैं वह सच नहीं है। हमें अपने जन्मसिद्ध अधिकार को समझने तथा दावा करने के लिए यह जानना
    जरूरी है कि हम परमेश्वर की संतान होने के नाते कौन हैं। फिर हमारे लिए कोई सीमा नहीं है।
    और केवल क्रिश्चियन साँयस ही हमें हमारे सच्चे अस्तित्व की आध्यात्मिक अंतर्दृष्टि देती है।

  8. दैनिक लिफ्टों की प्रिय मित्र,
    हम सब के साथ अपनी प्रेरणा बांटने के लिए धन्यवाद. प्रत्येक प्रेरणा मूल्यवान है और हमें भगवान की छवि और समानता में बनाया आदमी के रूप में महसूस करने के लिए ले जाता है - अपने वास्तविक स्वरूप.
    एक बार फिर धन्यवाद,
    सुशील Likhi, चंडीगढ़, भारत

  9. श्री सुशील लीखी जी, अपने संदेश द्वारा हमें हमारी असीमित क्षमता जो की हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है का एहसास देने के लिए धन्यवाद।

  10. धन्यावाद सुशील लीखी जी. मैं अभी हिंदी सीख रहा हूँ. मैं उदयपुर में रहते हैं. अपने सुंदर संदेश के लिए धन्यवाद.

  11. एक सुंदर कहानी के साथ इस तरह के एक सुंदर संदेश के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

hide comments-

Add a comment

Characters remaining: 1500
*
 (The email address will not be shown)